लक्षित हमलों पर संदेह करना सेना द्वारा किए गए सरहनीय कार्य का अपमान : वेंकैया नायडू

150

नई दिल्ली, अक्टूबर 5 : पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमलों का सबूत मांगने वालों पर हमला करते हुए केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने आज कहा कि अभियान पर और चर्चा करना भारतीय सेना द्वारा किए गए “सराहनीय” कार्य का “अपमान” होगा। उन्होंने यहां एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, “इस तरह की गैर जिम्मेदाराना टिप्पणियों और मांगों पर जवाब देने की कोई जरूरत नहीं है। सौभाग्य से, कांग्रेस ने अपनी गलती महसूस की है और अपने नेताओं की टिप्पणियों से खुद को अलग किया है… आप ने भी यह अत्यंत स्पष्ट कर दिया है।”

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

venkaiah-naidu_1_0_0_0_0_0_1_0_0_0

नायडू ने कहा कि भारतीय सेना की “विश्वसनीयता और प्रतिबद्धता” पर किसी को भी कोई संदेह नहीं है जिसने सराहनीय कार्य किया है और अभियान पर आगे चर्चा करना बल का अपमान होगा। उन्होंने कहा कि नायडू ने कहा कि सैन्य अभियान महानिदेशक (डीजीएमओ) ने अभियान के बारे में स्वयं ही पूरा ब्योरा दिया था और सर्वदलीय बैठक में भी सूचना साझा की। नायडू ने पूछा कि क्या आगे का ब्योरा जारी करना राष्ट्रहित में होगा?

सर्जिकल स्ट्राइक को सही ठहराते हुए नायडू ने कहा कि विश्व ने भी भारत द्वारा उठाए गए कदम को मान्यता दी है। उन्होंने कहा, “केवल पाकिस्तान ही कुछ कह रहा है क्योंकि उसके पास कहने के लिए कुछ होना चाहिए। वह अपने नागरिकों का अंतिम संस्कार करने की स्थिति में नहीं है… यह उसकी संस्कृति है।”

इससे पूर्व, आयोजन को संबोधित करते हुए मंत्री ने कहा कि भारत किसी के साथ युद्ध नहीं चाहता है, लेकिन यदि लगातार उकसावे वाली चीजें जारी रहेंगी तो मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘…हम कभी भी किसी के साथ युद्ध नहीं चाहते, हम उन्हें मुंहतोड़ जवाब देंगे जैसा कि हमारे जवानों ने हाल में दिया।’’

loading...