Venezuela Economic Crisis : वेनेजुएला की आर्थिक बर्बादी की कहानी , जरूर पढ़ें…

338

Venezuela Economic Crisis

Venezuela Economic Crisis
Venezuela Economic Crisis

◆ Zimbabwe, Greece के बाद अब एक ओर देश भयानक आर्थिक संकट में फंस चूका है। Latin अमेरिकी देश Venezuela आजकल अपने सबसे बुरे दिनों से गुज़र रहा है। वहां आजकल बिजली, खाना-पानी की भारी तंगी चल है। आइये अब हम step by step वेनेज़ुएला की कंगाली को समझते है और उससे कुछ शिक्षा लेने का प्रयत्न करते है।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

◆ Reasons Behind Economic Collapse

वेनेज़ुएला की आर्थिक स्थिति बिगड़नी काफी पहले से ही शुरू हो गई थी यह कोई अचानक हुई घटना नही है। जैसा की आप सभी जानते है वेनेज़ुएला में Oil काफी तेल भण्डार है। सऊदी अरब की तरह वेनेज़ुएला का अर्थतंत्र भी Oil पर काफी आधारित है। Venezuela अपनी Approx 40%-60% आय तेल और उससे संबंधित व्यापार से कमाता है। जैसा की आप सभी जानते है पिछले एक-डेढ़ वर्षो से तेल की कीमतों में लगातार गिरावट आ रही है। ऐसे में जिन देशो की अर्थव्यवस्था तेल पर आधारित है उनको तेल की गिरती हुई कीमतों के कारण काफी नुकसान हुआ है। सऊदी अरब की तरह वेनेज़ुएला के बजट में Deficit(खाद्य) देखने को मिली है। यहाँ से वह पैसो की कमी से जूझने लगा।

◆ Wrong Decisions By Officials

पता नही क्यों जब भी पैसो के कमी आ जाती है अधिकांश सत्ताधीश एक Common Mistake कर बैठते है और जिसके कारण सारी जनता को भुगतना पड़ता है और वह निर्णय है Printing Money ….. जी हाँ यही वह सामान्य गलती है जो हर देश कर बैठता है। पैसो की कमी होने पर देश की Central Bank द्वारा मुद्रा छपवाने समस्या घटती नही अपितु बढ़ती है। प्रथम विश्वयुद्ध के बाद German सत्ताधीशो ने यही निर्णय लिया था और परिस्थितिया क्या हुई यह आप जानते है बच्चे अपनी Currency Notes के बंडल्स के साथ खेलते थे। वेनेज़ुएला की शासको ने भी यही गलती की जिसका भुगतान वहां की प्रजा कर रही है। खाने पीने की चीजो की कीमत आसमान छु गई, दवाई, इलाज इन सबका अभाव हो गया।

◆ Hyperinflation in Venezuela

वेनेज़ुएला ने पैसो की कमी से निपटने के लिए Currency Notes छापनी शुरू कर दी। यही से
# Hyperinflation शुरू हो गया। Hyperinflation में होता है की जब भी कोई देश अपने बजट की Deficit को भरने के लिए notes छापता है तब जनता में Effective Demnad और Purchasing Power काफी बढ़ जाती है। समाज की खरीदने की क्षमता बढ़ जाने के मांग को पूरा करने लायक Production नही हो पाता currency की value down होने के कारण लोग पैसा हाथ में आते ही खर्च करने लगते है पैसे की कीमत और घटने लगती है। जिससे hyperinflation और बढ़ जाता है। यही वेनेज़ुएला में हुआ कुछ दिनों पहले तक वहां 1 अमेरिकी dollar = 200 Bolivar के rate पर थाअ जबकि अब वह 1 US Dollar = 1000 Bolivar के rate तक गिर गया है। मुद्रा की कीमत दिन बी दिन घटती जा रही है आगे और भी घटेगी।

Venezuela Economic Crisis
Venezuela Economic Crisis

◆ Mismanagement By Nicolas Maduro

राष्ट्रपति निकोलस मदुरो ने काफी गलत फैसले लिए जिसके कारण आज वेनेज़ुएला को भुगतना पड़ रहा है। सबसे पहले उन्होंने यह मूर्खता की की Deficit Financing के तहत उन्होंने Central Bank द्वारा Currency notes छपवाये। यही से जीवन आवश्यक वस्तुओं के भाव आसमान छु गए। दूसरा यह की पैसो के आभाव के चलते वहां की Imports काफी घट गई almost सभी Super Markets खाली हो गए। चीज वस्तुओ black marketing होने लगी। वेनेज़ुएला की सरकार Black Marketing और Smugglers पर लगाम नही लगा पाई। वेनेज़ुएला को Black Market से काफी नुकसान हुआ। वहां चीज वस्तुओं के आयात में कमी के चलते लोग Social Media द्वारा चीज वस्तुओ का आदान प्रदान करने लगे।

◆ Paying The Price Of Being Anti-America?????

वास्तव में लेटिन अमेरिका के कई देश लम्बे अरसे से अमेरिका विरोधी रहे है। इसमें Ecuador,Venezuela मुख्य है। Ecuador पर आप मेरी रिपोर्ट पहले ही पढ़ चुके है। वेनेज़ुएला के भूतपूर्व राष्ट्रपति Hugo Chavez अपने अमेरिका विरोध के लिए जाने जाते थे। CIA लम्बे अरसे से Venezuela को कण्ट्रोल करने का प्रयास कर रही है। सूत्र बताते है की वहां का विपक्ष पूरी तरह US नियंत्रित है। black marketing करवाने में भी अमेरिका का हाथ है ऐसे आरोप लगे है। कुल मिलाकर वेनेज़ुएला की इस असुंतलन की स्थिति के पीछे अमेरिका का हाथ बताया जा रहा है ताकि वह Hugo Chavez के अनुगामी निकोलस मदुरो को हटाकर अपने प्यादे को वेनेज़ुएला में बिठा सके। लक्षण भी ऐसे ही लग रहे है की वहां सत्ता परिवर्तन हो।

Venezuela Economic Crisis
Venezuela Economic Crisis

★Solution:- नागरिक हमेशा अपने देश की आर्थिक नीतियो में विषय में सजग रहे। अपनी आवश्यक चीजे हो सके तो खुद ही उत्पादन करे जैसे की खाने की चीजे(Garden Farming)… आर्थिक विकेंद्रीकरण हमेशा लाभदायक होता है। सऊदी,वेनेज़ुएला की तरह मात्र Oil पर निर्भर रहना घातक होता है। अपने व्यक्तिगत जीवन में भी विकेंद्रीकरण की नीति अपनाएं। सरकार आधारित न रहे। आप खुद ही अपनी समस्याओं के जनक भी हो और समाधन भी।

© वेंकटेश भृगु (महामहिम)

venki

loading...