सपना न देखे पाकिस्तान, कश्मीर भारत का है और हमेशा रहेगा

1211

यूयार्क। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यूएन महासभा को संबोधित करते हुए पाकिस्तान पर जमकर निशाना साधा है। सुषमा ने आतंकवाद का मुद्दा उठाते हुए कहा कि हम आतंकवाद को रोकने में सफल नहीं हुए। उन्होंने कहा कि आतंकवाद मानवाधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन है। सुषमा ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना उसपर निशाना साधा। उन्होंने पूछा, ‘आतंकवादियों को पनाह कौन देता है। आतंकवादियों का मददगार कौन है। जिसने आतंकवाद का बीज बोया, उसने कड़वा फल खाया है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद को पालने का शौक पाकिस्तान को है, उसे अलग-थलग करना होगा।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

Watch Video :- 

एक नजर में सुषमा स्वराज का यूएन में संबोधन

सुषमा ने उरी हमले के बाद पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ की ओर से कश्मीर का जिक्र किए जाने का जोरदार जवाब दिया। सुषमा ने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा। पाकिस्तान का मंसूबा कभी कामयाब नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘जिनके घर शीशे के हों, वो दूसरों पर पत्थर न फेंकें। मित्रता के साथ विवाद सुलझाने की कोशिश की गई। हमें बदले में क्या मिला, उरी जैसा आतंकी हमला? बहादुर अली सीमापार से आतंकवाद का जीता जागता सबूत है।

बेहद जोरदार था सुषमा स्वराज का यूएन में संबोधन

सुषमा स्वराज ने बलूचिस्तान का भी मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि बलूचिस्तान में मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ है।

गरीबी को मिटाना सबसे बड़ी चुनौती है।

गरीबी और असमानता पर चर्चा होना जरूरी है।

दुनियाभर के लिए अहम मुद्दों पर चर्चा करना जरूरी है।

शांति के बगैर दुनिया का विकास संभव नहीं है।

स्वच्छता अभि‍यान पर काफी काम हो रहा है।

भारत सबसे तेज बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है।

loading...