मुहर्रम के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी देश के साथ नमक हरामी : योगी

1650

गोरखपुर: प्रदेश के विभिन्न भागों में मुहर्रम जलूस के दौरान पाकिस्तान के समर्थन पर हुई नारेबाजी पर अपना विरोध जताते हुए सदर सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा है की किसी धार्मिक अथवा मजहबी आयोजन की आड़ में दुश्मन देश के समर्थन में नारेबाजी करना तथा दुश्मन देश के झण्डे को लहराना देशद्रोह की श्रेणी में आता है। प्रशासन ऐसे तत्वों के साथ सख्ती से पेश आए।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि किसी मत, सम्प्रदाय, पंथ एवं मजहब से जुड़े हुए आयोजनों को सफलतापूर्वक सम्पन्न करने की जो स्वतंत्रता भारत के अन्दर है वह दुनिया के अन्दर अन्य कहीं नहीं है। भारत के लोकतंत्र एवं भारत के संविधान ने बिना किसी भेदभाव के धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार प्रत्येक नागरिक को दिया है लेकिन मत एवं मजहब की आड़ में कोई व्यक्ति अथवा समुदाय खुलेआम बहुसंख्यक समाज को गाली दे, भारत माता के विरूद्ध अनर्गल प्रलाप करे तथा दुश्मन देश के समर्थन में नारे लगाकर उसके झण्डे को लहराए यह किसी भी दशा में स्वीकार नहीं हो सकता।

yogi-1469102943

योगी ने कहा की कोई भी सभ्य और स्वाभिमानी समाज इसे स्वीकार नहीं कर सकता। जिन सिरफिरों को भारत माता की धरती अच्छी नहीं लगती या जिनके मन में मातृभूमि के प्रति प्यार और सम्मान का भाव नहीं वे वहां जाने को स्वतंत्र हैं जहां उन्हें अच्छा लगता है। लेकिन भारत के अन्दर रहकर भारत विरोधी आचरण यह सीधे नमक हरामी और राष्ट्र के प्रति गद्दारी है। ऐसे लोग अपनी परम्परा और पुर्वजों को भी कलंकित कर रहे हैं।

उन्होंने कहा की कुशीनगर, देवरिया, महाराजगंज, सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, गोण्डा, बहराइच समेत प्रदेश के विभिन्न जिलों से ऐसे समाचार देखने और सुनने को मिले हैं जो न केवल प्रशासनिक अकर्मण्यता को प्रमाणित करते हैं अपितु राष्ट्रीय सुरक्षा के सामने भी एक गम्भीर चुनौती प्रस्तुत करते हुए दिखाई देते हैं।

भाजपा सांसद ने कहा की ऐसे सिरफिरे तत्वों से सख्ती से निपटने के बजाए प्रदेश शासन और प्रशासन उनकी जी-हजूरी कर रहा है, यह अत्यन्त शर्मनाक है। यह कहां का न्याय और धर्मनिरपेक्षता है कि मंदिर के सामने से ताजिया जा सकती है, मन्दिर के सामने खड़े होकर ढोल और ताशा बज सकता है, मन्दिर के सामने ताजिया रखकर मुस्लिम समुदाय अपना मजहबी कर्म कर सकता है लेकिन मस्जिद के सामने से मूर्तियां नहीं जा सकती। इस दोहरे चरित्र पर विराम लगाए जाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा की प्रशासन सख्ती के साथ ऐसे सिरफिरों के खिलाफ कार्यवाही करे जो न केवल समाज के सोहार्द को बिगाड़ रहे हैं बल्कि अपने उदण्ड कृत्यों से राष्ट्रद्रोही गतिविधियों को सीधे-सीधे अंजाम दे रहे हैं। अब भी यदि प्रशासन ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों के खिलाफ मौन बना रहा तो राष्ट्रवादी संगठन हाथ पर हाथ धरे नहीं बैठे रहेंगे।

loading...