रियलिटी चेकः क्या एक साधारण नागरिक 1 रुपए देकर कर सकता है भारतीय सेना की मदद?

7393

यह संदेश वाट्सऐप और फेसबुक पर तैर रहा है कि इस बैंक एकाउंट में 1 रु. जमा करके कीजिए आर्मी की मदद। जानिए सच क्या है…

 

देश इस वक्त तनाव के दौर से गुजर रहा है। लोगों में आतंकवाद को लेकर आक्रोश है। आम आदमी भी आतंकवाद के खिलाफ अपनी लड़ाई में किसी न किसी तरह से योगदान देना चाहता है। इसी जनभावना को समझते हुए आजकल वाट्सऐप और फेसबुक पर एक मैसेज खूब वायरल हो रहा है जिसमें कहा जा रहा है कि रोजाना सिर्फ 1 रुपए दीजिए और अपनी सेना को मजबूत बनाइए। क्या इस वायरल मैसेज में थोड़ी भी सच्चाई है या है कोरी अफवाह? हम आपको सबकुछ बताएँगें लेकिन पहले पढ़िए कि इंटरनेट की दुनिया में ये कौन सा वायरल मैसेज तैर रहा है और इसमें आखिर लिखा क्या है?

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

uri-pti-2

रोजाना सिर्फ एक रुपया दीजिए। मोदी सरकार ने पहली बार एक बेहतरीन योजना लांच की है जिसमें भारतीय सेना के हथियारों इत्यादि की खरीद के लिए साधारण आदमी भी अपना योगदान दे सकते हैं। सरकार ने इसके लिए एक बैंक एकाउंट खोला है जहाँ लोग दान दे सकते हैं। उस पैसे का इस्तेमाल भारतीय सेना की बेहतरी और हथियारों की खरीद में आएगा। मोदी सरकार ने नई दिल्ली के सिंडिकेट बैंक में एक खाता खोल दिया है। इस स्कीम की सबसे खास बात यह है कि इसमें आप सिर्फ 1 रुपए भी दान कर सकते हैं। हमारे देश की आबादी 130 करोड़ है। अगर 100 करोड़ लोग भी रोजाना एक रुपया जमा कराते हैं तो हर दिन सौ करोड़ हो जाएगा और साल का 36,000 करोड़ रुपए। यह रकम पाकिस्तान के कुल रक्षा बजट से ज्यादा है। हम कितनी पैसे की बर्बादी करते हैं क्या अपने देश के हीरो के लिए रोजाना 1 रुपया भी नहीं दे सकते।

JOIN THE MISSION TO MAKE INDIA A SUPER POWER !

Bank Details :

BANK : SYNDICATE BANK

BRANCH : SOUTH EXTENSION, NEW DELHI.

A/C NAME : ARMY WELFARE FUND BATTLE CASUALTIES

A/C NO : 90552010165915

IFSC CODE : SYNB0009055′

इस मैसेज को ज्यादा से ज्यादा फैलाने की अपील भी की गई है। इसपर भारतीय सेना ने एक स्पष्टीकरण जारी किया है। जिसमें लिखा है कि…

इस रियलिटी चेक में हमने पाया कि यह वायरल मैसेज सही है लेकिन पूरी तरह से नहीं। इस खाते में डाली गई रकम युुद्ध में घायल या शहीद जवानों के परिजनों को पहुँचाई जाएगी न कि हथियार खरीद के लिए। इसलिए इस वायरल संदेश को बिल्कुल झूठा मत मानें।

loading...