मोदी सरकार ने अघोषित आय वालों पर चलाया चाबुक, अब देनी होगी 200% पेनाल्टी!

1586

नई दिल्ली (10 नवंबर): सरकार ने कहा है कि दस लाख रुपये से ज्यादा के नोट जमा करवाने वालों से उनका आय का स्रोत मांगा जायेगा और अगर वो आय का समुचित स्रोत और कर अदायगी नहीं दिखा पाये तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाय़ेगी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ऐसे कालेधन पर 200 प्रतिशत जुर्माना भी वसूला जायेगा। वहीं सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है दो लाख रुपये तक जमा करवाने वालों को किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

 

500-1000-rupee-ban

सरकार ने आगाह किया कि बड़े नोटों का चलन बंद करने के बाद उन्हें जमा कराने की 50 दिन की छूट की अवधि में 2.5 लाख रुपये से अधिक की नकद जमा के मामलों में यदि आय घोषणा में विसंगति पाई गई तो टैक्स और 200 प्रतिशत जुर्माना भरना पड़ सकता है।

राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने ट्वीटर पर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, ”10 नवंबर से 30 दिसंबर 2016 की अवधि में हर बैंक खाते में 2.5 लाख रपये की सीमा से अधिक की सभी नकदी जमाओं की रपट हमें मिलेगी।”

अधिया ने कहा कि आयकर विभाग इन जमाओं का मिलान जमाकर्ता के आयकर रिटर्न से करेंगे। अगर खाताधारक द्वारा घोषित आय और जमा रकम में किसी तरह की विसंगति को कर-चोरी का मामला माना जाएगा।

loading...