अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे

1514

एक पुरानी कहावत है, ‘बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी’. आजकल कुछ ऐसा ही हाल हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान का है. भारत की ओर से की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अब अमेरिका ने पाकिस्तान को अपने तरीके से समझाते हुए कहा है कि ‘अगर ज़रुरत पड़ी, तो वह पाकिस्तान में घुस कर उसके यहां फैले आतंकी संगठनों के नेटवर्क को खत्म कर देगा’.

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे

Source: merinews

भारत तो हमेशा से ही दुनिया को यह बताता आया है कि पाकिस्तान ने अपने देश में आतंकी तैयार करने के लिए अनेक आतंकी संगठनों को पनाह दे रखी है. अब तक अमेरिका अपने राजनीतिक स्वार्थों और कूटनीतिक चालों के चलते पकिस्तान की हरकतों को देख कर भी अनदेखा कर रहा था.

अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
Source: freebeacon

जब से चीन ने पाकिस्तान से और पाकिस्तान ने चीन से नजदीकियां बढ़ानी शुरू की है, तब से अमेरिका ने पाकिस्तान को लेकर अपने रुख में बदलाव लाना शुरू कर दिया है. यूएस के टेररिज्म और फाइनेंशियल इंटेलिजेंस के एक्टिंग अंडर सेक्रेटरी एडम ज़ुबीन ने एक वार्ता में बताया कि ‘पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई आतंकी संगठनों के खिलाफ़ कोई भी कड़ी कार्यवाही करने में रुचि नहीं लेती है. इसके विपरीत आईएसआई आतंकी संगठनों को हमेशा शह देने में ही आगे रहता है’.

अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
Source: ytimg

ज़ुबीन ने यह भी कहा कि ‘अगर पाकिस्तान ईमानदारी से आतंकवादियों के खिलाफ़ कार्यवाही करने के लिए अभियान चलाता है, तो अमेरिका पाक के साथ है’.

अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
अमेरिका ने दी पाकिस्तान को धमकी, अगर आतंकियों को पनाह दी, तो घर में घुस कर मारेंगे
Source: wordpress

पाकिस्तान तो आज तक अपनी हरकतों से बाज़ आया नहीं है, अब देखना यह है कि अमेरिका ने जो कहा है, उस पर वो कितना अमल करता है.

loading...