मिलिए भारत के वीर जांबाज़ पैरा कमांडोज से, जिन्होंने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को खत्म कर दिया

21514
Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

जब से जम्मू-कश्मीर के उरी में आतंकवादी हमला हुआ और हमारे देश के वीर जवान शहीद हो गए थे, तब से भारतीयों में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा भड़क रहा था। सभी हिन्दुस्तानी चाहते थे कि, पाकिस्तान को सबक सिखाया जाये। और इस बार इस हमले का बदला भारतीय सेना ने ले लिया और सभी भारतीयों को एक बहुत ही शानदार तोहफा दिया है। आज हर भारतीय ख़ुशी मना रहे है। पैरा कमांडोज ने पाकिस्तान कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर 7 कैम्प्स तबाह कर दिए और करीब 38 आतंकवादियों को मौत के घाट उतार दिया।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

20160922_055046

इसी तरह पिछले साल मणिपुर के चंदेल जिले में उग्रवादियों ने हमारे देश के 18 वीरों को शहीद कर दिया था, तब भी एलीट पैरा कमांडोज ने म्यांमार की सीमा में घुसकर उग्रवादियों के 2 कैम्प्स उड़ा दिए थे और करीब 100 उग्रवादियों को मौत की नींद सुला दिया था।

आइये आज हम आपको बताते है कि, ये बहादुर, जांबाज़ और शेरदिल पैरा कमांडो कैसे तैयार होते है…

दुश्मनों के इलाकों में घुसकर घात लगाकर हमला बोल देना और आतंकवादियों के खिलाफ स्पेशल ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए आसमान से छलांग लगाकर दुश्मनों पर धावा बोल देना, इन सब ऑपरेशन में ये पैरा कमांडो सबसे आगे रहते है।

meet-indian-army-brave-para-commandos-parachute

हमारी देश की भारतीय सेना के पास हर वक़्त आसमान से हमला करने वाले 2 हजार जांबाज़ पैरा कमांडोज हर वक़्त तैयार रहते है। पैरा कमांडोज की अहमियत का पता इस बात से लगाया जा सकता है कि, जब वर्ष 1971 में भारत-पाकिस्तान का युद्ध हुआ था, तब हमारे देश के तकरीबन 700 पैरा कमांडोज ने इस युद्ध का रुख ही बदल डाला था। ये बहुत खतरनाक और जांबाज़ होते है।

meet-indian-army-brave-para-commandos
source: Cyberbharat

भारतीय सेना के 10 हजार में से एक सफल जवान को चुना जाता है। पैरा कमांडो को आसमान से करीब 5 हजार से 30 हजार फीट की ऊंचाई से छलांग लगानी पड़ती है। दुश्मनों को ख़त्म करने के लिए इन्हें कड़ी से कड़ी ट्रेनिंग दी जाती है। सबसे पहले 15 दिनों की जमीन पर इन्हें कड़ी ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है। फिर बाद में आसमान से छलांग लगाने वाली सख्त ट्रेनिंग से गुजरना होता है। हर चरण की ट्रेनिंग बहुत खतरनाक होती है। और ये ट्रेनिंग इन पैरा कमांडोज को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत भी बनाती है।

आगे पेज में जानिए एक पैरा कमांडो अपने शरीर पर कितना वजन रखता है और उसे किस तरह की ट्रेनिंग दी जाती है…

Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse
loading...