ऑपरेशन ‘संकटमोचन’ सफल, दक्षिण सूडान से 156 लोगों की वतन वापसी

166

नई दिल्ली: सूडान में भारत का ऑपरेशन संकटमोचन कामयाब रहा है। त्रिवेन्द्रम एयरपोर्ट पर पहुंचते ही यात्रियों को खुशी का ठिकाना नहीं रहा। आम यात्रियों के साथ- साथ संकटमोचक बने केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह भी खुशी छिपा नहीं पा रहे थे। C 17 ग्लोबमास्टर मिलिट्री ट्रांसपोर्ट प्लेन से लौटने के बाद मंत्री जी ने बताया कि पहली खेप में 156 लोग सूडान से लौटकर आए हैं।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

जैसे ही कंपाला से दो C-17 ग्लोबमास्टर मिलिट्री ट्रांसपोर्ट प्लेन ने उड़ान भरी। विदेश मंत्रालय ने ट्विट कर खुशी जताते हुए कहा कि वॉर जोन से लोग बाहर निकल गए हैं और अब जब यात्रियों ने देश की जमीन पर कदम रखा तो नई जिंदगी मिलने का सबको एहसास हो रहा था। पहले C-17 ग्लोबमास्टर एयरक्राफ्ट से 156 लोग भारत लौटे इनमें 10 महिलाएं और 3 नवजात भी शामिल हैं।

sankat-mochan-operation-1468550347

गृह युद्ध की चपेट में है साउथ सूडान

बता दें कि पिछले कई दिनों से लगातार दक्षिण सूडान में ताबड़तोड़ गोलियां चल रही है। सड़कों पर टैंक दौड़ रहे हैं। दुनिया का सबसे नया मुल्क साउथ सूडान गृह युद्ध की चपेट में है। ऐसे हालात के बीच वीके सिंह के सामने चुनौती थी लोगों को सकुशल भारत लाने की। युद्ध के इस माहौल में रेस्क्यू ऑपरेशन काफी मुश्किल था लेकिन विदेश मंत्रालय ने ये चुनौती स्वीकार की।

pic-5-1468550517

गृहयुद्ध के बीच दक्षिण सूडान में कोई सोता तक नहीं था। पता नहीं कब कहां भागना पड़े, कौन कहां से हमला कर दे। दक्षिणी सूडान दहशत से भरे एक विशाल मेले में तब्दील हो गया था। ऐसे माहौल में वहां रहने वाले भारतीय जिंदगी को उजड़ने से बचाने की दुआ मांग रहे थे।

loading...