प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े – पढ़ें पूरी खबर…

8139

प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े : भारत के पहले प्रधानमंत्री और छोटे बच्चों में चाचा के नाम से मशहूर जवाहर लाल नेहरू सबसे प्रभावशाली नेताओं में गिने जाते हैं. जवाहर लाल नेहरू को भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) शहर से बेहद लगाव था. मध्यप्रदेश और जवाहर लाल नेहरू का नाता गहरा था. इस प्रदेश का नामकरण खुद नेहरू ने किया था. साथ ही उस दौर के नेता शंकरदयाल शर्मा जवाहर लाल नेहरू के नजदीकी थे, ऐसे में नहेरू अक्सर भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) आते-जाते रहते थे. जब वो पीएम थे तब उन्होंने करीब 18 बार भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) का दौरा किया था.

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) में इस महल में रूकते थे नेहरू
नेहरू जब भी भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर होते तो वो किसी सरकरी आवास में नहीं बल्कि भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) नवाब के चिकलोद स्थित कोठी पर रुकते थे. ये वही कोठी है जिसपर पटौदी खानदान कई सालो से केस लड़ रहा है. ये जगह भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) से करीब 30 किलोमीटर दूर है.
प्रोटोकॉल तोड़कर कोठी में रूकते थे नेहरू
भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर नेहरू जब भी आते वो प्रोटोकॉल तोड़कर अकेले उस कोठी में रहना पंसद करते थे. दरअसल इस कोठी की खास बात थ कि ये शहर से दूर और शांत जगह पर थी साथ ही जंगलो के बीच में होने के कारण यहां का नजारा अलग होता था इसलिए नेहरु यहीं रूकते थे.
सिगरेट लेने भेजा गया विमान
नेहरू भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर थे और उन्हें खाने के बाद सिगरेट पीने की आदत थी लेकिन उनकी सिगरेट खत्म हो गई थी ऐसे में तुंरत एक खास विमान भेजा गया जो नेहरू के लिए सिगरेट लेकर आया. कहा जाता है वो पहले दिन भर में 20-25 सिगरेट पी जाते थे,हालांकि बाद में उन्होंने कम कर दी
Read:
200 किमी भेजा गया विमान
नेहरू उस दौर में 555 सिगरेट ही पीते थे लेकिन वो भओपाल में नहीं थी ऐसे में भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) से इंदौर एक विशेष विमान भेजा गया. इंदौर एयरपोर्ट पर सिगरेट के कुछ पैकेट पहुंचाए गए और विमान सिगरेट के पैकेट लेकर वापस भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) लौट आया. इस घटना का जिक्र मप्र राजभवन की वेबसाइट पर है.
लंदन से धुलकर आते थे नेहरु के कपड़े
जवाहरलाल नेहरू के पिता पंडित मोतीलाल नेहरू उस जमाने में देश के नामीगिरामी लोगों में शुमार थे. नेहरू जी के दादा पंडित गंगाधर नेहरु दिल्ली में कोतवाल थे और पिता इलाहाबाद में जाने मानें वकील थे. नेहरु एक अच्छे परिवार से आते थे कहा जाता है कि मोतीलाल नेहरू और जवाहर लाल नेहरू के कपड़े तक विदेश में धुलने जाते थे.
लंदन में पढ़े हैं नेहरु
नेहरु अपने पिता के अकेले बेटे थे ऐसे में नेहरु का बचपन बेहद आराम से बीता. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हैरो से और कॉलेज की शिक्षा ट्रिनिटी कॉलेज, लंदन से पूरी की थी. इसके बाद उन्होंने अपनी लॉ की डिग्री कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की थी…Next
Read More:
प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े
प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े

 भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) में इस कोठी में रूकते थे जवाहर लाल नेहरू

कहा जाता है जब जवाहर लाल नेहरू भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर होते तो, वो किसी सरकरी आवास में नहीं बल्कि भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) नवाब के चिकलोद स्थित कोठी पर रुकते थे. ये वही कोठी है जिसपर पटौदी खानदान कई सालोंं से केस लड़ रहा है. यह जगह भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर है.

प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े
प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े

प्रोटोकॉल तोड़कर कोठी में रूकते थे जवाहर लाल नेहरू

भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर नेहरू जब भी आते तो वो प्रोटोकॉल तोड़कर अकेले इस कोठी में रहना पसंंद करते थे. दरअसल इस कोठी की खास बात ये थी कि ये शहर से दूर और शांत जगह पर थी, साथ ही जंगलोंं के बीच में होने के कारण यहां का नजारा अलग होता था, इसलिए जवाहर लाल नेहरू यहीं रुकते थे.

 

Pandit-Jawaharlal-Nehru

सिगरेट लेने भेजा गया विमान

जवाहर लाल नेहरू भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) के दौरे पर थे और उन्हें खाने के बाद सिगरेट पीने की आदत थी, लेकिन उनकी सिगरेट खत्म हो गई थी, ऐसे में तुरंत एक खास विमान भेजा गया, जो पीएम जवाहर लाल नेहरू के लिए सिगरेट लेकर आया. कहा जाता है वो पहले दिनभर में 20-25 सिगरेट पी जाते थे, हालांकि बाद में उन्होंने कम कर दी.

 

nehru pandit

200 किमी भेजा गया विमान

जवाहर लाल नेहरू उस दौर में 555 ब्रांड की ही सिगरेट पीते थे लेकिन वो सिगरेट भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) में नहीं मिल रही थी, ऐसे में भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) से इंदौर एक विशेष विमान भेजा गया. इंदौर एयरपोर्ट पर सिगरेट के कुछ पैकेट पहुंचाए गए और विमान सिगरेट के पैकेट लेकर वापस भोपाल (पूर्व नाम ‘भोजपाल’) लौट आया.

 

नेहरू की सिगरेट
नेहरू की सिगरेट 

लंदन से धुलकर आते थे जवाहर लाल नेहरू के कपड़े

जवाहरलाल नेहरू के पिता पंडित मोतीलाल नेहरू उस जमाने में देश के नामी गिरामी लोगों में शुमार थे. नेहरू जी के दादा पंडित गंगाधर नेहरू दिल्ली में कोतवाल थे और पिता इलाहाबाद में जाने माने वकील थे. जवाहर लाल नेहरू एक अच्छे परिवार से आते थे, कहा जाता है कि मोतीलाल नेहरू और जवाहर लाल नेहरू के कपड़े तक लंदन में धुलने जाते थे.

 

nehru1

लंदन में पढ़े हैं जवाहर लाल नेहरू

जवाहर लाल नेहरू अपने पिता के अकेले बेटे थे, ऐसे में जवाहर लाल नेहरू का बचपन बेहद आराम से बीता. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हैरो से और कॉलेज की शिक्षा ट्रिनिटी कॉलेज, लंदन से पूरी की थी. इसके बाद उन्होंने अपनी लॉ की डिग्री कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की थी…

प्लेन से मंगवाई गई थी नेहरू की सिगरेट, विदेश धुलते थे उनके कपड़े

loading...