#MissionBadla भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकी कैम्पों को किया तहस नहस, पढ़िए कितनो को मार गिराया

26017

उरी आतंकी हमले का बदला: एक अंग्रेजी साईट ने भारतीय सेना के सूत्रों के हवाले से खुलासा किया है।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

 इसबार बात भारतीय सेना की अस्मिता और 18 शहीदों की कुर्बानी की थी। ऐसे में सैनिक हाथ-हाथ पर हाथ धरे कैसे बैठे रह सकते थे? खबर मिल रही है कि भारतीय सेना के स्पेशल फोर्स की टुकड़ी के 18-20 कमांडोज हेलीकॉप्टर से एलओसी क्रॉस कर पाकिस्तान के अधिकार वाले कश्मीर में दाखिल हुए और संदिग्ध आतंकी ठिकानों और कैंपों में 20 आतंकियों को मार गिराया। इस हमले में करीब 200 संदिग्ध आतंकियों के घायल होने की भी खबर है। यह खबर एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाईट ‘द क्विंट’ ने अपने रक्षा सूत्रों के हवाले से प्रकाशित किया है।

वेबसाईट की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय सेना के स्पेशल फोर्स की दो टुकड़ी जिसमें 18-20 सैनिक थे। इन्होंने हेलीकॉप्टर से एलओसी क्रास करके पाक अधिकृत कश्मीर में उड़ान भरी और आतंकी ठिकानों पर हमले किए। वेबसाईट ने दो स्वतंत्र सूत्रों से भी इसकी पुष्टि की है। इस खबर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर एकबार फिर मोदी सरकार के समर्थन में हवा बननी शुरू हो गई है। इससे पहले 17 सितंबर को उरी सेक्टर के आर्मी बेस कैंप में हुए आतंकी हमले के बाद सरकार की काफी आलोचना हुई थी। इस हमले में 18 जवान शहीद हो गए थे और करीब 25 गंभीर रूप से घायल हुए थे। ये हमला सुबह करीब 5.30 बजे हुआ था जब भारतीय सेना के जवान ड्यूटी बदलकर अपने कैंप में सो रहे थे। इस दर्दनाक घटना के बाद से ही पूरे देश में रोष था और पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्यवाई की माँग की जा रही थी।

हालाकि भारतीय सेना के इस हमले की पूरी तरह से पुष्टि नहीं की जा सकती क्योंकि सेना की और से ऐसा कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। आमतौर पर ऐसे हमलों में आधिकारिक बयान आने की संभावना भी नहीं होती है। भारतीय सेना ने अगर ऐसी कार्यवाई की भी होगी तो उसे सार्वजनिक नहीं करेंगे अन्यथा अंतर्राष्ट्रीय दबाव बनने शुरू हो जाएँगें। इसलिए फिलहाल सू्त्रों पर भरोसा किया जा सकता है। बताया जा रहा है कि यह हमला 20-21 सितंबर की रात को अंजाम दिया गया। उसी वक्त पाकिस्तान काफी बौखलाया हुआ था और उसने पाक अधिकृत कश्मीर को नो फ्लाई जोन घोषित कर दिया था। उधर पाक पीएम नवाज शरीफ ने भी अपनी सेनाओं को आगाह किया था कि सचेत रहे क्योंकि भारत कभी भी हमला कर सकता है।

loading...