भारतीय वायु सेना के ये कारनामे जानने के बाद आप भारतीय होने पर नाज़ करेंगे

4008
Prev1 of 4Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय वायु सेना के ये कारनामे जानने के बाद आप भारतीय होने पर नाज़ करेंगे : ताक़त, जज़्बा, जोश और काबिलियत, ये शब्द इंडियन एयर फोर्स के कारनामों के सामने कमतर नज़र आते हैं. इंडियन एयर फ़ोर्स ने हर मौके पर दुनिया भर में खुद को न केवल साबित किया है, बल्कि बेहद ज़िम्मेदारी के साथ कई उपलब्धियां अपने नाम की हैं. भारतीय वायु सेना दुनियाभर की सबसे मजबूत फ़ोर्सेज़ में से एक है. 8 अक्टूबर 1932 को स्थापित एयर फ़ोर्स ने कई युद्धों और शांति मिशन में अपनी ताकत और क्षमता को दुनिया के सामने उजागर किया है. इनमें नेपाल का भूकम्प और उत्तराखंड की बाढ़ जैसे कई हादसे भी शामिल हैं, जहां वायु सेना के जवानों ने बड़ी हिम्मत और जवाबदेही से काम किया. सरकार इंडियन एयर फ़ोर्स को दुनिया में सबसे ज़्यादा ताकतवर और आधुनिक बनाने में जुटी है.

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

आज हम आपको भारतीय वायु सेना से जुड़े 15 ऐसे तथ्य बताएंगे, जिन्हें जानने के बाद आप भारतीय वायु सेना को सलाम करेंगे.

1. फ़्लाइंग ऑफिसर निर्मलजीत सिंह शेखों इकलौते ऑफिसर हैं, जिन्हें सेना का सर्वोच्च सम्मान परमवीर चक्र मिला. एयर फ़ोर्स में किसी और को ये गौरव नहीं मिला.

2. आंकड़ों के मुताबिक, इन्डियन एयर फ़ोर्स के पास 1473 मजबूत एयरक्राफ्ट फ्लीट हैं, जिनमें हेलिकॉप्टर्स, ट्रेनर्स और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट्स शमिल हैं.

3. पद्मावती बंदोपाध्याय इंडियन एयर फ़ोर्स की पहली महिला एयर मार्शल थीं. वो एयर फ़ोर्स मेडिकल सर्विसेज़ की डायरेक्टर जनरल थीं.

4. अर्जन सिंह भारतीय वायु सेना के इकलौते अधिकारी थे, जो एयर मार्शल के पद तक पहुंचे थे. मार्शल Highest Rank होती है.

अगले कारनामे के लिए यहाँ क्लिक करें 

Prev1 of 4Next
Use your ← → (arrow) keys to browse
loading...