हिलरी की इस विदेश नीति से हो सकता है तीसरा विश्व युद्ध, पढ़ें पूरी खबर…

1756

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डॉनल्ड ट्रंप ने हिलरी की विदेश नीति की कड़ी आलोचना की है। रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप ने कहा है कि हिलरी क्लिंटन की सीरियाई विदेश नीति तीसरा विश्व युद्ध छेड़ देगी। ट्रंप ने इस चेतावनी के साथ-साथ एक सुझाव भी दिया कि अमेरिका को सीरिया के राष्ट्रपति को हटाने से ज्यादा अपना ध्यान ISIS को खत्म करने में लगाना चाहिए।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

क्लिंटन ने सीरिया में ‘नो फ्लाई जोन’ प्रस्तावित किया है। अमेरिका के टॉप मिलिट्री चीफ ने भी ऐसी ही चेतावनी जारी की है कि ऐसा कदम इस क्षेत्र में रूस के साथ बड़े संघर्ष को जन्म दे सकता है। इसके जवाब में क्लिंटन ने ट्रंप पर अमेरिकियों को भयाक्रांत करने का आरोप लगाया है।

सीरिया के हवाई जोन पर नियंत्रित करने को लेकर ट्रंप ने कयामत आने की भविष्यवाणी की। ट्रंप ने कहा, अगर हम हिलरी को सुनते हैं तो हमें तीसरे विश्व युद्ध की तरफ बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता है। अब आप केवल सीरिया से नहीं लड़ रहे हैं बल्कि आपको समझना होगा कि अब सीरिया से लड़ने का मतलब सीरिया, रूस, और ईरान से लड़ना है। रूस परमाणुशक्ति संपन्न देश है वह भी एक ऐसा देश जहां परमाणु शक्ति का इस्तेमाल केवल दूसरे देशों से लड़ने के लिए किया जाता है।

ट्रंप ने सलाह दी कि अमेरिका को सीरियाई राष्ट्रपति बसर-अल असद को हटाने पर फोकस करने की पुरानी नीति को बदलना होगा। हमें फिलहाल आईएसआईएस को खत्म करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। अब हमें सीरिया पर दिमाग लगाने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि अब क्लिंटन रूसी राष्ट्रपति पुतिन से आमने-सामने बात भी नहीं कर सकेंगी क्योंकि वह कई बार उनकी तीखी आलोचना कर चुकी हैं। अगर 8 नवंबर को हिलरी अमेरिकी राष्ट्रपति बन भी जाती हैं तो वह किस मुंह से रूसी राष्ट्रपति पुतिन से बात करेंगी जिनको वह इतना बुरा पेश कर चुकी हैं।

क्लिंटन खेमे ने ट्रंप की इस आलोचना को खारिज कर दिया। हिलरी के समर्थकों ने कहा कि ट्रंप को रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक पार्टियों के सुरक्षा विशेषज्ञ कमांडर-इन-चीफ होने के लिए एकमत से अयोग्य करार दे चुके हैं। क्लिंटन के प्रवक्ता जेसे लेहरिच ने कहा, एक बार फिर वह पुतिन के तोते की तरह बातें कर रहे हैं और अमेरिकियों के अंदर डर पैदा कर रहे हैं। उनके पास खुद ISIS को खत्म करने या सीरिया में हो रहे मानवाधिकार हनन की समस्या को लेकर उनकी खुद की कोई रणनीति नहीं है।

रूस के साथ बढ़ते तनाव पर ट्रंप की चेतावनी ऐसे समय में आई है जब अमेरिकी आर्म्ड फोर्सेज के सैन्य अधिकारियों ने भी कांग्रेस कमिटी के सामने यही चिंता जताई है। जॉइंट चीफ जनरल जोसेफ डनफोर्ड ने सांसदों को चेटाया था कि सीरिया में ‘नो फ्लाई जोन’ बनाने का अमेरिकी प्रस्ताव रूस के साथ युद्ध को न्योता दे सकता है।

क्लिंटन ने कहा था कि ‘नो फ्लाई जोन’ बनाने से सीरिया में संघर्ष जल्दी खत्म हो सकेगा और इससे कई जानें बच जाएंगी। हिलरी की सीरियाई विदेश नीति प्रेजिडेंट ओबामा की सीरियाई संघर्ष में अमेरिकी की भूमिका को कम करने की नीति से बहुत अलग होगी।

विकिलीक्स के खुलासे में यह बात सामने आई है कि 2013 में हिलरी क्लिंटन ने अपने एक भाषण में कहा था कि ‘नो फ्लाई जोन’ बनाने से कई सीरियाई लोगों की जानें जाएंगी।

दोनों उम्मीदवार चुनाव के बचे 13 दिनों में कैंपेन करने में व्यस्त हैं। अमेरिका में 8 नवंबर को मतदाता हिलरी और ट्रंप की किस्मत का फैसला करने वाले हैं।

loading...