यूपी: बोरियों में भरकर लाए और जलाए गए 500-1000 के नोट? पुलिस कर रही जांच

1258

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश के नाम संबोधन में 500 और 1000 रुपए के नोटों को मंगलवार रात 12 बजे के बाद बंद किए जाने का ऐलान किया। इसे ब्लैक मनी पर लगाम लगाए जाने की कोशिश बताई जा रहा है। इसके अगले दिन यूपी के बरेली में 500 और 1000 रुपए के नोट जलाने का मामला सामने आया। पुलिस ने बताया कि यूपी के बरेली में बुधवार को 500 और 1000 रुपए के जले हुए नोट पाए गए हैं। कथित तौर पर एक कंपनी के कर्मचारी बोरियों में भरकर नोटों को लाए और उसके बाद उन्हें परसा खेड़ा रोड सीबी गंज में जलाया गया। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि प्रथम दृष्टया, करेंसी नोटों को पहले फाड़ा गया, नष्ट करने की कोशिश की गई और फिर आग लगा दिया गया।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

आईएएनएस के मुताबिक पुलिस ने घटनास्थल से नोटों के बचे हुए टुकड़ों को इकट्ठा कर लिया है और इस बात की जानकारी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को दे दी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात को 500 और 1000 रुपए जैसे बड़े नोटों को बंद करने का ऐलान किया था। इसके बाद से ही कहा जा रहा था कि उनके इस ऐलान से काला धन रखने वालों को ब्लैक मनी को ठिकाने लगाने का समय भी नहीं मिला। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया अब 500 और 2000 के नए नोट जारी करेगी।

note

काले धन पर एक नजर
वर्ल्ड बैंक द्वारा जारी किए गए 1999 के आंकड़ों के मुताबिक, देश में मौजूद कुल जीडीपी का 20.7 प्रतिशत पैसा काला धन था। वहीं 2007 में इसका साइज बढ़कर 23.2 प्रतिशत हो गया। कुल 180 देशों में भारत का काला धन है। इसमें से 70 हजार करोड़ रुपए तो सिर्फ स्विस बैंक में ही है। इस बैंक में भारत का सबसे ज्यादा काला धन है। सभी बैंकों में कुल मिलाकर कितना काला धन है इस बात की जानकारी नहीं हो सकी है। ब्लैक मनी उस धन को कहा जाता है जो गलत तरीके से कमाया जाता है और जिसपर सरकार की कोई निगरानी नहीं होती और उसपर इनकम और बाकी टैक्स नहीं भरे जाते।

loading...