आजम खान अपने ट्रस्ट के जरिए अवैध तरीके से बदल रहे हैं पुराने नोट

2231

आजम खान अपने ट्रस्ट के जरिए अवैध तरीके से बदल रहे हैं पुराने नोट : अखिलेश यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री आजम खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां के लाइन में लगकर बैंक से पैसा निकालने को लेकर तो बयान दे रहे हैं लेकिन अपने उपर पुराने नोट बदलने को लेकर लगे आरोपों पर चुप हैं.

सपा सरकार के विवादित मंत्री आजम खान पर आरोप लग रहा है कि अपने पद और रसूख का इस्तेमाल कर बैंक से अपने पुराने 500 और 1000 के नोट अवैध तरीके से बदलवा रहे हैं. कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खां लाला ने आरोप लगाया है कि कैबिनेट मंत्री आजम खां जिला सहकारी बैंक रामपुर से नियमों के खिलाफ कद्दावर काम करते हुए अपने पद का दुरूप्योग करते हुए अपने जौहर ट्रस्ट की करेंसी बदल रहे है.

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
आजम खान अपने ट्रस्ट के जरिए अवैध तरीके से बदल रहे हैं पुराने नोट
आजम खान अपने ट्रस्ट के जरिए अवैध तरीके से बदल रहे हैं पुराने नोट

फैसल का दावा किया कि आरबीआई में उन्होंने जब इसकी शिकायत की तो उसने इस मालले में संज्ञान लेते हुए आजम के ट्रस्ट के पुराने नोट बदलने पर रोक लगाई. वहीं डीसीबीकी यूनिवर्सिटी स्थित शाखा में मनी ट्रांसफर की गई. उसकी भी जांच की जानी चाहिए. कांग्रेस के नेता के अलावा एक और नेता ने भी आजम पर ये आरोप लगाए हैं.

बसपा नेता और पूर्व मंत्री नवेद मियां ने भी जिला सहकारी बैंक में कराए जा रहे घपले की उच्चस्तरीय जांच कराए जाने की मांग की है. पूर्व मंत्री और स्वार टांडा विधायक नवाब काजिम अली खां का भी आरोप है कि इस बात की जांच हो कि किसानों को दी जाने वाली करेंसी मंत्री को कैसे दे दी गई है.

गौरतलब है कि जिन नेताओं ने आजम खां पर ये आरोप लगाए हैं उनका आजम खान से 36 का आंकड़ा है और क्षेत्र में इनके अलावा आजम खान की मनमानी के खिलाफ कोई मुस्लिम नेता जल्दी से आजम से टक्कराने की हिम्मत नहीं करता है.

आरोप लगाने वाले फैज़ल लाला खान
आरोप लगाने वाले फैज़ल लाला खान

बहराल, अपने उपर लगे इन आरोपों को लेकर आजम खान का न तो कोई बयान आया है और न ही उन्होंने इसको लेकर कोई सफाई ही दी है. ये ओर बात है कि आजम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बूढ़ी मां के लाइन में लगने को लेकर तो खूब बयान दे रहे हैं.

वहीं दूसरी ओर आजम अपने उपर लगे आरोपों की सफाई देने के बयाज अब उन लोगों को निशाना बना रहे हैं जो उनके खिलाफ आवाज उठा रहे हैं. गौरतलब है कि जिस कांग्रेस नेता फैसल खां लाला ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ रिजर्व बैंक के गर्वनर को पत्र भेजकर आजम के गलत तरीके से खिलाफ नोट बदलने की शिकायत की थी, अब उनके खिलाफ ही सत्ता के इशारे पर मामले दर्ज कर उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है.

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खां लाला समेत उनके 25 साथियों के खिलाफ जिला सहकारी बैंक में घुसकर हंगामा करने, तोड़फोड़ का प्रयास, ग्राहकों में भय का माहौल पैदा करने, अशांति उत्पन्न करने के साथ ही बैंक के खिलाफ झूठा प्रचार करके छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई गई है.

loading...