माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली पहली आईपीएस बनीं अपर्णा

478

अपर्णा कुमार

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

अपर्णा : शनिवार का दिन ठीक 11 बजकर दो मिनट पर अपर्णा कुमार दुनिया के सर्वोच्च शिखर पर थीं. दो बार असफल होने के बाद तीसरी बार में उन्होंने उस मुकाम को हासिल कर लिया जिसे पाना हर पर्वतारोही का सपना होता है.

उत्तर प्रदेश पुलिस की आईपीएस अधिकारी अपर्णा कुमार ऐसा करने वाली पहली महिला पुलिस अधिकारी हैं. 41 वर्षीय अपर्णा ने जैसे ही एवरेस्ट की चोटी पर झंडा फहराया उन्हें बधाई देने वालों का तांता लग गया.

अपर्णा इससे पहले अंटार्कटिका और कि‍लिमंजारो के ऊंचे-ऊंचे पर्वतों पर भी चढ़ाई कर चुकी हैं.

यह भी पढ़ें : बिना पैरों के एवरेस्ट फतह करने वाली अरुणिमा सिन्हा की एक और उपलब्धि

अंटार्कटिका की सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा लहरा चुकी हैं

अपर्णा के पति भी आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने ने भी पत्नी के एवरेस्ट फतह को इरादों की जीत बताया है। पिछले साल अप्रैल में एवरेस्ट मिशन पर निकली थीं, अपर्णा नेपाल में आए भूकम्प के दौरान एक जानलेवा एवलांच में फंस गई थीं। वहां से उन्हें एयरलिफ्ट किया गया था। इससे पहले अंटार्कटिका की सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा लहरा चुकी हैं। वहीं पिछले साल सितंबर में उन्होंने यूरोप की हाईएस्ट पीक एलब्रस पर तिरंगा फहराकर देश का सिर गर्व से ऊंचा किया था।

यह भी पढ़ें : रेनबो वैली  माउंट एवेरेस्ट  एक खुला क़ब्रिस्तान (Rainbow Valley Mount Everest An Open Graveyard)

जो ठान लेती हैं वे करती हैं

वे एक आर्इपीएस अफसर हैं, देश सेवा की भावना उनके में बचपन से ही भरा है। उन्होंने सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास की आैर वे आर्इपीएस अफसर बनी। इसके बाद भी वे अपने शौक नहीं छोड़ी। उनका शौक भी कोर्इ एेसा वैसा नहीं है। खतरों से खेलना उनकी आदत है। एवरेस्ट पर तिरंगा लहराने का उन्होंने फैसला किया तो कर लिया, इस दौरान उन्हें काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा, लेकिन वे कहां हार मानने वाली थीं। उन्होंने अपना प्रयास जारी रखा आैर वही हुआ अंत में वह अपने मकसद में कामयाब रहीं आैर एवरेस्ट पर तिरंगा लहरा दिया।

loading...