अब जड़ से खत्म होगा आतंकवाद, PM Modi पानी के अंदर देंगे आतंकियों को मौत

5412

नई दिल्ली। #UriAttack के बाद से ही पूरे देश में गुस्से का माहौल बना हुआ है। वहीं आतंकवाद को रोकने के लिए मोदी सरकार हर बड़ा कदम उठा रही है। फिर चाहे वो सीमा पर जवानों की संख्या बढ़ाना हो या फिर राफेल लड़ाकू विमान डील। अब सरकार ने आतंकियों का सफाया करने के लिए एक और बड़ा कदम उठाया है। मोदी सरकार सीमा पार से होने वाले घुसपैठ को रोकने के लिए पश्चिमी मोर्चे पर हजार करोड़ की मल्टी लेयर सिक्योरिटी स्थापित करने पर काम कर रही है।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
modi-ship-1_650_061414052011
अब जड़ से खत्म होगा आतंकवाद, पीएम मोदी पानी के अंदर देंगे आतंकियों को मौत

मल्टी लेयर सिक्योरिटी से आतंकियों को भारत में घुसना मुश्किल

यानि सिर्फ जमीन पर ही नहीं बल्कि अब पानी के अंदर से होने वाली घुसपैठ को रोकने के लिए भी भारत सरकार कार्य कर रही है। पानी में तैरना और डाइविंग जैसी चीजें आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा की ट्रेनिंग का हिस्सा है, जो कि वह अपने सदस्यों को देते हैं। बताया जा रहा है कि देशी सेंसर तकनीक पानी के नीचे घुसपैठियों का पता लगाने वाली तकनीकी ग्रिड का हिस्सा होगी। इस तकनीक के तहत लेजर वॉल्स (लेजर बीम्स की दीवार), ग्राउंड सेंसर और थर्मल इमेजर्स को नदियों में अंतराल पर लगाया जाएगा।

आर्मी के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकी भारत में घुसपैठ करने के लिए सबसे ज्यादा पानी का इस्तेमाल कर रहे हैं, इसलिए अब हम मल्टी लेयर सिक्योरिटी से पानी को भी सुरक्षित करने जा रहे हैं। उदाहरण के तौर पर पिछले साल सीमा पार से हेरोइन की एक खेप ट्यूब में भरवा कर जलकुंभी के साथ कवर करके भेजी गई थी। यह खेप पानी के अंदर सीमा पार कर गई थी। उन्होंने बताया कि सुरक्षा के लिहाज से गृह मंत्रालय पहले ही कई बॉर्डर प्रोजेक्ट्स को मंजूरी दे चुका है।

#UriAttack में 18 भारतीय जवान हुए थे शहीद

गौरतलब है कि रविवार को सीमा पार से आए चार पाकिस्तानी आतंकियों ने आर्मी बेस पर हमला कर दिया था। उन्होंने जवानों पर अंधाधुंध फायरिंग की और ग्रेनेड फेंके। इन चारों आतंकवादियों को तीन घंटे की भीषण मुठभेड़ के बाद मार गिराया गया था। इस हमले में 18 जवान शहीद हो गए थे। भारत ने उरी हमले के लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया है और सोमवार को सरकार ने पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग करने की कोशिश करने का फैसला किया है।

loading...