छत्तीसगढ़: 354 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण; सरकार ने दी 10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि

रायपुर, अक्टूबर 4: देशभर के नक्सल प्रभावित इलाको मे सरकार द्वारा चलाये जा रहे नक्सल विरोधी अभियान की सफलता धीरे ही सही लेकिन कामयाबी की राह पर बढ़ रही है। छत्तीसगढ़ के सुकमा में मंगलवार को करीब साढ़े तीन सौ की संख्या में नक्सलियों व नक्सल समर्थकों ने आत्मसमर्पण किया है।

sukma-naxalite-surrendered

पुलिस अधिकारी के मुताबिक इनमें 57 नक्सल सदस्य और बाकी 297 नक्सल समर्थक हैं। खोखली माओवादी विचारधारा और शोषण, अत्याचार, भेदभाव एवं हिंसा से तंग आकर नक्सलियों व नक्सल समर्थकों ने आत्मसमर्पण किया है। 57 नक्सलियों में से 15 नक्सली छत्तीसढ़ सरकार द्वारा ईनामी, 11 नक्सली एसपी द्वारा ईनामी और 7 स्थायी वारंटी हैं। इनमें 17 ने भरमार बंदूक के साथ सरेंडर किया है।

जिन नक्सल समर्थकों ने पुलिस के सामने सरेंडर किया है उनमें केरलापाल माझीपारा के 53, पटेलपारा केरलापाल के 45, पोटमपारा के 38, बोरगुड़ा के 5, गोंदपल्ली मोसलपारा के 50, जीरमपाल के 26, जैमेर के 10, पालेम के 11, धुररास के 3, बड़ेसेट्टी के 8, धुरगुड़ा के 35, पांडूपारा के 13 लोग शामिल हैं। सभी 57 नक्सलियों को 10-10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई।

इससे पहले कोंडागांव जिला में पुलिस ने बीती रात हुई मुठभेड़ में एक वर्दीधारी नक्सली को मार गिराया। साथ ही मौके से एक नक्सली को गिरफ्तार भी किया गया है। बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी एवं कोंडागांव एसपी संतोष सिंह ने बताया कि बयानार थाने से डीएफ एवं सीएएफ का संयुक्त बल गश्त सर्चिंग के लिए रवाना किया गया था। लौटते वक्त छेरी के जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी।

बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी के निर्देशन में चलाए जा रहे एंटी नक्सल अभियान में बीते नौ माह में 104 नक्सलियों को मार गिराया गया है। यहीं नहीं इस दौरान पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते करीब 500 से अधिक नक्सलियों ने आत्मसमर्पण भी किया है।

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

loading...

Loading...
शेयर करें