1 जुलाई, 2016 से बदलेंगे रेलवे के ये नियम

631

1 जुलाई, 2016 से बदलेंगे रेलवे के ये नियम
1 जुलाई, 2016 से बदलेंगे रेलवे के ये नियम

1 जुलाई, 2016 से बदलेंगे रेलवे के ये नियम नई दिल्ली: 1 जुलाई, 2016 से भारतीय रेलवे अपने नियमों और सुविधाओं के तहत कई बदलाव करने जा रहा है। जिसमें सबसे अहम है कि तत्काल टिकटों की वापसी पर अब मुसाफिरों को वापस मिल सकेगी। एक जुलाई से रेलवे की ओर से चलायी जानेवाली सुविधा ट्रेनों में यात्रियों को कन्फर्म टिकट की सुविधा दी जायेगी। आईए नजर डालते हैं एक जुलाई 2016 से भारतीय रेलवे के नियमों और सुविधाओं में होनेवाले कुछ अहम बदलावों पर एक नजर ।  

-1 जुलाई से मुसाफिरों को तत्काल टिकट कैंसिल करने पर 50 फीसदी रकम वापस मिल जाएगी।
-तत्काल टिकटों की बुकिंग का समय भी बदल जायेगा। 1 जुलाई से तत्काल विंडो सुबह 10 से 11 बजे तक एसी कोच के लिए और 11 से 12 बजे तक स्लीपर कोच के लिए खुलेगी।
-1 जलाई से ट्रेनों में वेटिंग लिस्ट का झंझट खत्म हो जायेगा। रेलवे की ओर से चलायी जानेवाली सुविधा ट्रेनों में यात्रियों को कन्फर्म टिकट की सुविधा दी जायेगी।
-1 जुलाई से शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में कोचों की संख्या में बढ़ोतरी की जाएगी जिससे यात्रियों को आराम से टिकट मिल सकेंगे।
-1 जुलाई से राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में केवल मोबाइल टिकट ही वैध होगा।
-जल्द ही रेलवे अलग-अलग भाषाओं में टिकटिंग की सुविधा शुरू करेगा। अभी तक हिंदी और अंगरेजी में ही टिकट मिलते हैं, लेकिन नयी वेबसाइट के बाद अलग-अलग भाषाओं में भी टिकट की बुकिंग की जा सकेगी।
-1 जुलाई से रेल मंत्रालय राजधानी, शताब्दी, दुरंतो और मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों के तर्ज पर सुविधा ट्रेन चलायेगा। रेलवे प्रीमियम ट्रेनों को पूरी तरह से बंद कर देगा।
-1 जुलाई से सुविधा ट्रेनों के टिकट को कैंसिल कराने पर आधा पैसा वापस मिलेगा और कोच के हिसाब से चार्ज होगा।
-1 जुलाई से सुविधा ट्रेनों में टिकट वापसी की स्थिति में 50 फीसदी किराये की वापसी होगी। इसके अलावा एसी-2 पर 100 रुपये, एसी-3 पर 90 रुपये, स्लीपर पर 60 रुपये प्रति यात्री कटेंगे।
-1 जुलाई से राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में पेपरलेस टिकटिंग की सुविधा पेपर वाले टिकट नहीं मिलेंगे, बल्कि आपके मोबाइल पर टिकट उपलब्ध होगा।

यह भी पढ़ें : गूगल ने पांच और रेलवे स्टेशनों पर मुफ्त वाई-फाई सेवा शुरू की , मुंबई-अहमदाबाद के बीच जल्द दौड़ेगी बुलेट ट्रेन, प्रोजेक्ट के लिए रेलवे ने बनाई विशेष कंपनी

x
loading...
SHARE