RSS मुक्त भारत का नारा देने वाले नीतीश फंसे विवाद में, गुरु गोलवलकर के साथ तस्वीर वायरल

बिहार के सीएम नीतीश कुमार का संघ मुक्त भारत का नारा और अभियान विरोधियों के निशाने पर है। इसी कड़ी में बीजेपी नेता राम माधव ने नीतीश कुमार की एक पुरानी तस्वीर को सार्वजनिक किया है। ट्विटर पर वायरल हुई इस तस्वीर में नीतीश गुरु गोलवलकर की तस्वीर के आगे दीप जला रहे हैं।

बीजेपी नेता राम माधव ने एक ट्वीट रिट्वीट किया है। इसमें उन्होंने तंज कसा है कि शायद यह नीतीश की रणनीति का हिस्सा हो।

RSS मुक्त भारत का नारा देने वाले नीतीश फंसे विवाद में, गुरु गोलवलकर के साथ तस्वीर वायरल
RSS मुक्त भारत का नारा देने वाले नीतीश फंसे विवाद में, गुरु गोलवलकर के साथ तस्वीर वायरल

सोशल मीडिया यूजर्स का कहना है कि केंद्रीय राजनीति में आने की चाहत में नीतीश बीजेपी विरोधी पार्टियों को एकजुट करके उस गठबंधन का सबसे बड़ा चेहरा बनना चाहते हैं।

जदयू की सफाई

जदयू प्रवक्ता नीरज सिंह ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि किसी कार्यक्रम में शामिल होना एक सामान्य शिष्टाचार का अंग है। वह आरएसएस, जिसको अटल जी नियंत्रित करते थे, उसने अपने सिद्धांतों के साथ विश्वासघात किया। आज का संघ लव जिहाद और घर वापसी पर उन्मादी नारे देता है। भाजपा नीतीश कुमार के संघ मुक्त भारत के नारे से तड़प रही है।

संघ व बीजेपी विरोधी एकजुटता का आह्वान

बता दें कि नीतीश ने संघमुक्त भारत का नारा देकर सभी विपक्षी दलों को बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया है। इसे लेकर अब वे बीजेपी और संघ दोनों के निशाने पर हैं।

बीजेपी का पलटवार

नीतीश के ‘संघ मुक्त भारत’ के आवाह्न पर पलटवार करते हुए बीजेपी ने कहा था कि आरएसएस के आलोचकों को कम-से-कम एक बार उसकी शाखा में भाग लेना चाहिए, ताकि उनकी ‘गलत धारणाएं’ मिट सकें।

बीजेपी ने कहा था कि उसका मुकाबला करने के लिए एक संयुक्त मोर्चा बनाने के प्रयासों से उसपर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला। पार्टी ने यह भी कहा कि मोदी सरकार को देश के विकास एवं गरीबों के लिए काम करने से रोकने के ऐसे प्रयास सफल नहीं होंगे।

बीजेपी प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा था, ‘नीतीश कुमार ने ‘आरएसएस मुक्त’ भारत की बात कही है। आप संघ के लोगों के साथ काफी लम्बे समय तक रहे हैं। आपका बीजेपी के साथ लंबा गठबंधन रहा है। और आप बीजेपी के कार्यक्रमों में भाग भी लेते रहे हैं। आपने ‘संघ मुक्त’ भारत की भी बात कही है। बेहतर होगा कि आप संघ को थोड़ा देखें और समझें।’ उसके लिए संघ की शाखा में जाना सर्वोत्तम होगा।

जो लोग देश में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का विरोध करते हैं उन्हें कम से कम एक बार उसकी शाखा में जाना चाहिए। उसके बाद ही उनकी समझ बेहतर हो सकेगी और उनकी गलत धारणा दूर हो सकेगी। उसके बाद ही उनके सॉफ्टवेयर में तकनीकी खामियां दूर हो सकेंगी।’

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...
शेयर करें