500-1000 रूपए के नोट बैन कर पीएम मोदी चले जापान

764

नई दिल्ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को जापान के लिए रवाना हो गए। वह टोक्यो में वार्षिक द्विपक्षीय सम्मेलन में शिरकत करेंगे।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर कहा, “पूर्व का दौरा शुरू। इस बार वार्षिक सम्मेलन जापान में है। प्रधानमंत्री मोदी टोक्यो के लिए रवाना हो गए।”

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

modi-japan

नरेंद्र मोदी इससे पहले सितंबर 2014 में भी जापान की यात्रा पर गये थे

नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा था कि दोनों देशों के बीच हाईस्पीड रेल सहयोग से द्विपक्षीय व्यापार और निवेश को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा, “भारत और जापान के बीच हाईस्पीड रेलवे सहयोग दोनों देशों के बीच सहयोग का उदाहरण है।”उन्होंने कहा, “इससे न सिर्फ हमारे व्यापार और निवेश संबंध मजबूत होंगे बल्कि भारत में कौशल रोजगार का भी सृजन होगा, बुनियादी ढांचे में सुधार होगा और मेक इन इंडिया अभियान को बल मिलेगा।”

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने पिछले साल भारत के दौरे के दौरान मुंबई से अहमदाबाद के बीच हाईस्पीड रेलवे लाइन के निर्माण पर प्रतिबद्धता जताई थी। मोदी ने कहा, “प्रधानमंत्री आबे और मैं 12 नवंबर को कोबे की यात्रा करेंगे। हम दोनों कोबे में कावासाकी भारी उद्योग इकाई का दौरा करेंगे जहां हाईस्पीड रेलवे का निर्माण किया जाना है।”प्रधानमंत्री के रूप में मोदी की यह दूसरी जापान यात्रा है।

इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर 2014 में जापान गये थे और पिछले वर्ष दिसंबर में श्री आबे भारत की यात्रा पर आये थे। पीएम मोदी की इस यात्रा से यह भी उम्मीद है की देश की सामरिक शक्ति को बढ़ाया जा सकता है। भारत ने जापान से करीब 10,000 करोड़ रुपये के एक दर्जन US-2i एम्फिबियर एयरक्राफ्ट खरीदने का फैसला किया है। यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब पीएम नरेंद्र मोदी द्विपक्षीय सामरिक संबंधों को और मजबूती प्रदान करने के लिए पीएम मोदी 11-12 नवंबर को जापान की यात्रा पर जा रहे हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने पिछले साल की यात्रा के दौरान दोनों देशो के बीच हुई बैठक के बाद दोनों देशों ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे जिसके अनुसार दोनों देश एक दूसरे के साथ रक्षा उपकरणों से संबंधित तकनीक का आदान प्रदान कर सकेंगे। तब दोनों नेताओं ने कहा था कि वो रक्षा तकनीक और आपसी उत्पादन से आपसी रिश्तों को और मजबूत करना चाहते हैं।

loading...