मिलिए भारत की पहली महिला कमांडो ट्रेनर से, जिन्होंने अब तक बीस हजार से ज्यादा कमांडो को ट्रेनिंग दे दी

भारतीय सेना और कमांडो ट्रेनर शिफुजी को तो आप अच्छी तरह से जानते हो, लेकिन क्या आप भारतीय सेना और कमांडो महिला ट्रेनर सीमा राव के बारें में जानते हो? नहीं ना! आज हम आपको बता रहे है इनके बारें में, क्योंकि बहुत कम लोग है जो इनके बारें में सही जानते है। सीमा राव देश की पहली महिला कमांडो ट्रेनर है, इसके अलावा वह कॉम्बैट शूटिंग इंस्ट्रक्टर, फायर-फाइटर, स्कूबा डाइवर भी है। सीमा राव को रॉक क्लाइम्बिंग में मशहूर एचएमआई मेडल भी हासिल किया है। इसके अलावा सीमा राव मिस इंडिया की फाइनलिस्ट भी रह चुकी हैं।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-01
source: cyberbharat

इनका नाम डॉक्टर सीमा राव है और तकरीबन पिछले बीस सालों से अपने देश के लिए सीमा राव बिना किसी स्वार्थ के सेवाएं देती आ रही है। सीमा राव के बारें में ज्यादा लोग नहीं जानते है इसलिए उनके बारें में जानना जरुरी है और जानकर इसे आगे शेयर करना भी हमारी जिम्मेदारी बनती है।

देश की वीर वीरांगना सीमा राव भारतीय सेना के स्पेशल फोर्सेस के कमांडो को पिछले बीस सालों से ट्रेनिंग देती आ रही है। सीमा राव के लिए सबसे गर्व वाली बात यह है कि, इन कमांडो को ट्रेनिंग देने के लिए वह अलग से कोई पैसे नहीं लेती है, क्योंकि उनका मकसद देश की निस्वार्थ सेवा करना है।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-02

अपने बचपन के दिनों से ही सीमा राव को देश के लिए कुछ करने का जज़्बा था और सीमा सेना में जाना चाहती थी। सीमा राव की उम्र जब 16 साल की हुई तो उनकी मुलाकात अपने होने वाले पति से हुई और उन्होंने उस समय ही दोनों ने तय कर लिया था कि, वह आगे की जिंदगी साथ-साथ बिताएंगे। हालाँकि, सीमा के घरवाले इसके खिलाफ हो गए थे, तब दोनों ने अपना अलग-अलग रास्ता चुन लिया।

आगे पेज में और ज्यादा जाने भारत की पहली महिला कमांडो ट्रेनर के बारें में…

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...
शेयर करें