सॉफ्टवेयर त्रुटि को सही करने के लिए फोर्ड वापस मंगाएगी 42,300 गाड़ियां

86

सॉफ्टवेयर त्रुटि को सही करने के लिए फोर्ड वापस मंगाएगी 42,300 गाड़ियां

नई दिल्ली: अमेरिकी कार कंपनी फोर्ड ने 42,300 कारों को वापस मंगाने का फैसला लिया है। कंपनी को ये फैसला एक सॉफ्टवेयर की गलती के कारण लेना पड़ा है। कंपनी का कहना है कि इसने एयरबैग्स में कुछ कमी है जिसके कारण ग्राहकों को परेशानी हो रही है। वहीं इस त्रुटि को कंपनी द्वारा उनकी फोर्ड डिलरशिप में निशुल्क सुधारा जाएगा।

इस बारे में जानकारी देते हुए कंपनी ने कहा कि कंपनी फिगो और फिगो लगभग 42,300 वाहनों की सॉफ्टवेयर त्रुटि को सही करने के लिए उन्हें वापस मंगा रही है। इन कारों को साणंद प्लांट में तैयार किया गया था। वहीं लांच होने के बाद से 12 अप्रैल 2016 तक बने वाहनों में सॉफ्टवेयर त्रुटि हो सकती है जिसके कारण टक्कर की स्थिति में एयरबैग के ठीक से काम नहीं करेगा। इन कारों को वापस मंगाकर इनके सॉफ्टवेयर को जांचा जाएगा।

Ford_stamping_plant_Geelong

भारत में  जुलाई, 2012 में सियाम की ओर से स्वैच्छिक रिकॉल पॉलिसी लागू हुई थी। जिससे इसे अपनाने के बाद से ऑटोमोबाइल कंपनियां सुरक्षा कारणों से गाड़ियां वापस मंगाती हैं। ऐसे में अब अमेरिकी कार कंपनी फोर्ड भारत से अपने मॉडल्स की कारों को वापस मंगाने जा रही है। जिनमें  हैचबैक फिगो और कॉम्पैक्ट सेडान फिगो एस्पायर की कारें शामिल है।

वहीं कंपनी ने यह साफ कर दिया है कि इन कारों को डीलरशिपर पर भी जांचा जा रहा है कि जिससे जिन लोगों को डिलीवरी होनी है उन्हे भी कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी। डीलर के यहां भी इन गाड़ियों में सॉफ्टवेयर को अपग्रेड किया जाएगा।

गौरतलब है कि इससे पहले भी फोर्ड कंपनी अपनी गाड़ियों को बाजार से वापस मंगा चुकी है। सितंबर, 2013 में एक लाख 66 हजार फिगो और फिएस्टा क्लासिक कारें वापस मंगाई थीं। उस समय कंपनी की कारों में रियर ट्विस्ट बीम और पावर स्टीयरिंग की गड़बड़ी थी। इसके बाद नवंबर 2015 में भी 16,444 इकोस्पोर्ट एसयूवी को वापस मंगाया था। इसमें  रियर ट्विस्ट बीम की खामी को कंपनी ने मुफ्त में ठीक करके उपभोक्ताओं को वापस दी थी।

x
loading...
SHARE