फतवा : पुत्री को कामुक भाव से चूमना पाप नहीं…

46321
Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

पिछले सप्ताह ही दियानेट ने इस्लामी कानूनों diyanet-1की व्याख्या करते हुए एक धार्मिक आदेश जारी किया। इस आदेश से भयंकर बहस छिड़ गई है कि क्या यह नैतिकता की दृष्टि से उचित होगा? एक इस्लाम के अनुयायी ने दियानेट से पूछा था कि अगर एक पिता अपनी बेटी को कामुक भावनाओं के तहत चूमता है तो क्या इससे पिता के विवाह पर कोई असर पड़ता है?’ दियानेट का कहना था कि इससे पिता, एक पति के विवाह पर कोई असर नहीं पड़ता है? इस संस्था के अनुसार अगर एक पिता कामुक भावनाओं में बहकर भी चूमता है तो यह पाप नहीं है।  

 यह सवाल भी पूछा गया था कि अगर एक पिता अपने बेटी को देखकर कामुक विचारों से परेशान हो जाता है तो यह पाप नहीं है।’ साथ ही, बेटी को कम से कम नौ वर्ष से अधिक की उम्र का होना चाहिए। इससे पहले दियानेट ने एक और फतवा जारी किया था और इसमें कहा गया है कि जिन लोगों की मंगनी हो गई है, उन लोगों (पुरुष या स्त्री) को एक दूसरे का हाथ नहीं थामना चाहिए क्योंकि इस्लाम में इसे हराम माना जाता है। इस बात को देखकर कुछ (इस्लामिक) देशों के लोग उन लोगों पर तब तक पत्थरों की बरसात कर सकते हैं जब तक कि वे मर नहीं जाते। 

इस बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें 

Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

x
loading...
SHARE