इस साल भारत रचने जा रहा है इतिहास, पहली बार देश में नहीं होगी बिजली की कमी

4629

इस साल भारत रचने जा रहा है इतिहास, पहली बार देश में नहीं होगी बिजली की कमी नई दिल्ली। इस साल भारत इतिहास रचने जा रहा है। सरकार ने पहली बार यह घोषणा की है इस साल देश में बिजली की कमी नहीं होगी। अधिकारी इसका कारण सरकार के फ्यूल की कमी जैसे मुद्दों को सुलझाने को मानते हैं। केंद्रीय बिजली प्राधिकरण के डेटा के अनुसार देश में इस साल 3.1% पीक घंटों में और 1.1% नॉन पीक घंटों में बिजली सरप्लस होगी।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
इस साल भारत रचने जा रहा इतिहास, पहली बार देश में नहीं होगी बिजली की कमी
इस साल भारत रचने जा रहा इतिहास, पहली बार देश में नहीं होगी बिजली की कमी

बिजली की कमी 3.2% थी

एक दशक पहले पीक समय में बिजली की कमी 13% के करीब थी और पिछले साल बिजली की कमी 3.2% थी। बिजली की मांग और पूर्ति से जुड़े डेटा यह दिखाता है कि जून के बाद से बिजली का उत्पादन जरूरत से ज्यादा होगा। आधे से ज्यादा राज्य बिजली सरप्लस में होंगे और बचे हुए राज्यों में कुछ कमी हो सकती है।

मोदी सरकार का कहना है कि देश का बिजली सरप्लस उनकी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक है। कोयला उत्पादन जो कई सालों से रुका हुआ था वो अब बढ़ गया है। इस वजह से कई पॉवर प्लांट फिर से बिजली का उत्पादन शुरू कर चुके हैं।

जानकारों का कहना है कि केंद्र सरकार राज्यों की बिजली मांग को तो पूरा कर रही है लेकिन राज्य अपने घाटे को कम करने के लिए बिजली काटते हैं जिस वजह से उनकी मांग भी जरुरत से कम होती है। इसलिए बिजली सरप्लस होने का मतलब यह नहीं कि आपके 24 घंटे बिजली की आपूर्ति होगी।

कांग्रेस इसका श्रेय लेने से नहीं चूक रही। कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी सरकार कांग्रेस की ही योजनाओं को अपने नाम से आगे बढ़ा रही है और ऐसे समय में जब लोग बिजली कटौती से जूझ रहे हैं सरकार लोगों को गुमराह कर रही है।

सरकार ने वितरण कंपनियों के लिए नई स्कीम निकाली हैं जिसे 10 राज्यों ने स्वीकार किया है। एनडीए सरकार ने 2018 तक सभी गांवों को बिजली पहुंचाने का वादा किया है और 24 घंटे बिजली आपूर्ति के लिए 21 राज्यों के साथ एक्शन प्लान साइन किया है।

पहली बार देश में नहीं होगी बिजली की कमी

loading...