पटना : पंचायत चुनाव में मतदातों को कुत्तो का मांस भी खिलाया जा रहा है

3876

पंचायत चुनाव में मतदातों को कुत्तो का मांस भी खिलाया जा रहा है पटना। सूबे में ग्राम पंचायत और कचहरी चुनाव 10 चरणों में कराया जा रहा है। 24 अप्रैल से शुरू हुए पंचायत चुनाव में मतदान का सिलसिला 30 मई को अपने आखरी पड़ाव पर पहुचेगा। इस दौरान सूबे में पंचायत चुनावो के दौरान मतदाताओं को अपने प्रभाव में लेने खातिर उम्मीदवारों द्वारा तरह तरह का प्रलोभन देने की कवायद की गई।भोज भात से लेकर मनोरंजन की व्यवस्था की गई। खैर यह प्रक्रिया हर चुनाव में अपनाई जाती है। हम सभी इस तथ्य से भली भाति परिचित भी है। शासन द्वारा इस पर लगाम लगाने की भी कवायद होती रहती है।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
पंचायत चुनाव में मतदातों को कुत्तो का मांस भी खिलाया जा रहा है
पंचायत चुनाव में मतदातों को कुत्तो का मांस भी खिलाया जा रहा है

लेकिन, एक बेहद छोटी खबर जो वैशाली से चल कर मुझ तक पहुची उसने मुझे हैरान ही नहीं किया बल्कि मेरे होश उड़ा दिए। कई प्रश्न मेरे मन में उमड़ने घुमड़ने लगे। हक़ीक़त जानने को मैंने कई जगह फ़ोन घुमाए। इस प्रयत्न और प्रयास से जो तस्वीर बनी वो मेरे दिमाग को भन्नाने को मजबूर कर गई। क्या चुनाव जितने के खातिर अब बिहार में भी “कुत्तो के मांस परोसे” जाने लगे है? वैसे भी मुल्क के पूर्वोत्तर राज्यो समेत कई देशो में कुत्ते के मांस खाने की परम्परा रही है। लेकिन बिहार में ये पहली बार स्पष्ट होता दिख रहा है। वो भी महज अपने चुनावी फायदे के लिए।

इस का खुलासा तब हुआ जब राजधानी पटना से चंद किलोमीटर दूर लोकतंत्र की धरती वैशाली ज़िले के लालगंज में एक बड़े से प्लास्टिक के बोरे को खोल गया। मिली जानकारी के अनुसार लालगंज थाना क्षेत्र के हाजीपुर-वैशाली मुख़्य मार्ग के लंगड़ी पाकर चौक के समीप एक बगान में एक प्लास्टिक के बड़े से किसी चीज़ से भरे बोरे को पड़ा कुछ राहगीरों ने देखा। बोरे से उठ रही बदबू और आवारा कुत्तों द्वारा लगातार भौकने से लोगो की उत्सुकता बढ़ी तो, बोरे को कई लोगो की मौजूदगी में खुलवाया गया। बोरे को खोलते ही उसमे से दर्जन भर से ज्यादा कुत्तो का कटा हुआ सिर, पैर एवं अन्य अवशेष मिले।बड़ी सख्या में कुत्तों के कटे सर पैर मिलने की खबर आग की तरह पुरे इलाके में फ़ैल गई। इस खबर के फैलते ही इलाके के लोगों ने कयास लगाना शुरू कर दिया है कि हो न हो पंचायत चुनाव के दौरान इन “कुत्तो का मांस” पंचायत चुनाव की पूर्व रात को किसी उम्मीदवार द्वारा वोटरों को अपने पक्ष में गोलबंद करने के खातिर परोस गया या फिर वितरित किया गया होगा।

बोरे से बरामद कुत्तो के अवशेष भी चीख चीख कर आम लोगो की सोच में गवाही दे रहे है कि कुत्तो का मांस इरादतन खस्सी बकरी के मीट के संग मिलाकर परोसा गया है। इस खुलासे से पुरे इलाके में सनसनी फ़ैल गई है। वही दूसरी तरफ लोग बाग़ अपने अपने ढंग से ” उस शातिर शख्स” का पता लगाने में जुटे है। उल्लेखनीय है कि इस इलाके में बुधवार को 7वें चरण में पंचायत चुनाव सम्पन्न हुए है।

पंचायत चुनाव में मतदातों को कुत्तो का मांस भी खिलाया जा रहा है पटना

loading...