यह सुपर हाई-वे आपको 12 घंटे में पहुंचा देगा दिल्ली से वैष्णो देवी

10317

चंडीगढ़, 9 अक्तूबर- केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि दिल्ली से कटड़ा तथा दिल्ली से जयपुर जाने वाले दो नेशनल सुपर हाई-वे के निर्माण पर 70 हजार करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। इस सुपर हाई-वे के बन जाने से दिल्ली से कटड़ा की दूरी 727 किलोमीटर से 150 किलोमीटर कम होकर 572 किलोमीटर रह जाएगी, जिससे दिल्ली से कटड़ा तक का सफर 12 से 13 घंटे में तय किया जा सकेगा। यह सुपर हाई-वे जीन्द-उचाना-नरवाना पंजाब के मोगा, जालन्धर, अमृतसर होता हुआ कटड़ा तक जााएगा।
vaishno-devi-news
सुपर हाई-वे: 12 घंटे में पहुंचा देगा दिल्ली से वैष्णो देवी, प्रेम से बोलो जय माता दी
चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने आज जींद के जुलाना में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इस सुपर नैशनल हाई-वे के बन जाने से दिल्ली से जीन्द तक का सफर मात्र 70 मिनट में कवर किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सुपर हाई-वे के बन जाने से उद्योगपति यहां अपनी औद्यौगिक इकाइयां स्थापित करने के लिए आकृष्ट होंगे, जिससे देश व प्रदेश का आर्थिक विकास तेजी से होगा। उन्होंने कहा कि लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होने से उनके  आर्थिक स्तर को उंचा उठाया जा सकेगा। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि नेशनल हाई-वे 8 के समानान्तर दिल्ली से जयपुर वाया रेवाड़ी-पटौदी सुपर हाई-वे भी बनाया जाएगा। यह देश व प्रदेश के आर्थिक विकास में कारगर सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों से ये सुपर हाई-वे गुजरेंगे,  उनमें आथर््िाक उन्नति के नये आयाम स्थापित होंगे।
केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जीन्द के सहकारी चीनी मिल की क्षमता को डबल किया जाएगा।  उन्होंने सहकारी चीनी मिलों मेें शुगर कॉम्पलैक्स बनाने और इन कॉम्पलैक्स में बिजली पैदा करने का भी सुझाव दिया। इससे चीनी मिलें एक तरफ जहां अपनी आवश्यकताएं पूरी कर सकेंगी तो वहीं दूसरी तरफ बची हुई बिजली का वितरण उनके द्वारा पास के गांवों में भी किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि इनमें डिस्टलरी भी स्थापित की जाए। अब तक सहकारी क्षेत्र में कोई डिस्टलरी नहीं है। उन्होंने कहा कि बाजरा व ज्वार के नए बीज आए हंै जिनमेंं शुगर का कन्टेंट 4 प्रतिशत तक है। अत: ऐसे नए विकल्प खोजे जाएं  ताकि गन्ने के अलावा ऐसी फसलोंं से भी चीनी बनाने का और एथेनोल इत्यादि बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि पैट्रोल व डीजल आदि आयात करने पर काफी विदेशी मुद्रा खर्च होती है। इस प्रकार किसान के गन्नेे का भाव भी ज्यादा मिलेगा।
चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि वे जीन्द जिले के  सभी गांवों का दौरा कर जानकारी हासिल करेंगे कि किस गांव में किस प्रकार की  मांग अथवा जरूरत है ताकि उन्हे प्राथमिकता के आधार पर पूरा करवाया जा सके। उन्होंने कहा कि अब तक जीन्द जिला के साथ भेदभाव हुआ है। किसी भी पार्टी की सरकार ने इस जिले में कोई विकास कार्य नहीं करवाया।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें
loading...