मोदी के लिए बनाये चक्रव्यूह में खुद फ़स गए ! जानिए क्या है पूरा मामला

मोदी के लिए बनाये चक्रव्यूह में खुद फ़स गए ! जानिए क्या है पूरा मामला —> कहते है राजनीति में कुछ भुलाया नहीं जाता है, वक्त आने पर हर सही गलत का फैसला अपने आप हो जाता है. हां ये बात अलग है कि वक्त के साथ लोग अपनी सहूलियत भी बदल लेते है. इशरत जहां का मामला कुछ ऐसा ही है. जब वक्त यूपीए सरकार का था तो केस की थ्योरी कुछ और थी और अब ये थ्योरी बदल चुकी है. पिछली बार निशाने पर तत्कालीन गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी थे और अब तब के केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदंबरम निशाने पर हैं

modi-P_Chidambaram

सही कौन है और गलत कौन ये कहना किसी के वश में नहीं है लेकिन बिल्कुल साफ है कि पिछली बार कांग्रेस नरेंद्र मोदी को बख्शने के मूड में नहीं थी इस बार BJP  किसी भी तरह की मुरव्वत के लिए राजी नहीं है. मंगलवार को BJP  की प्रेस कांफ्रेस करके साफ कर दिया गया कि कांग्रेस को अपनी गलती पर पछताना पड़ेगा. BJP  प्रवक्ता संबित पात्रा ने साफ कहा कि पी चिंदबरम को इशरत जहां मामले के बारे में पता था और अब वो अपने चक्रव्यूह में फंस चुके है.

यह भी पढ़ें : 70 प्रतिशत देशवासी चाहते हैं कि कार्यकाल पूरा होने के बाद मोदी फिर से बने प्रधानमंत्री

संबित पात्रा का कहना है कि कांग्रेस ने सत्ता का दुरुपयोग करते हुए मोदी और शाह को फंसाने की कोशिश की थी. इशरत से संबंधित फाइलों की जानकारी चिदंबरम को हो चुकी थी. लेकिन सिर्फ BJP  को फंसाने के लिए उन्होने राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया था. सत्ता का गलत इस्तेमाल करना भी एक जुर्म है और इसकी सजा पी चिदंबरम साहब को मिलकर रहेगी. फिर चाहे BJP  को भले ही इसके लिए कितनी भी बड़ी लड़ाई लड़नी पड़ जाए.

मोदी के लिए बनाये चक्रव्यूह में खुद फ़स गए ! जानिए क्या है पूरा मामला
मोदी के लिए बनाये चक्रव्यूह में खुद फ़स गए ! जानिए क्या है पूरा मामला

BJP  का दावा है कि उसके पास पी चिंदबरम के खिलाफ खासे सबूत इकट्ठा हो चुके है, और BJP  कुछ ही दिनों में ये साफ कर देगी कि वास्तिवकता क्या थी और उसे किस तरह से पेश किया गया. आपकों बता दें कि ताजा दस्तावेजों से ऐसा साफ हुआ है कि पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम ने इशरत जहां केस में हलफनामे को हरी झंडी दिखाई थी. और एक ही महीने के बाद फिर इशरत को निर्दोष साबित कर दिया गया था.

मनमोहन की विदेश यात्राओं पर आठ अरब जबकि मोदी पर 78 करोड़ हुए खर्च

मायावती, कांशीराम को बौद्ध दीक्षा दिलाने वाले संत हुए मोदी भक्त

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

loading...

Loading...
शेयर करें