NAMO ने रचा इतिहास, चाबहार समझौते पर हुए हस्ताक्षर

916
Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

NAMO ने रचा इतिहास, चाबहार समझौते पर हुए हस्ताक्षर तेहरान: भारत और ईरान ने आतंकवाद, चरमंथ और साइबर अपराध से मिलकर निपटने का निर्णय किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तेहरान यात्रा के दूसरे दिन दोनों रणनीतिक भागीदार देशों ने 12 समझौतों पर हस्ताक्षर किए, जिसमें भारत द्वारा चाबहार बंदरगाह के विकास का महत्वपूर्ण समझौता भी शामिल है। व्यापारिक और रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण चाबहार बंदरगाह के विकास के लिए भारत 50 करोड़ डॉलर मुहैया कराएगा।

पीएम मोदी ने भारत-ईरान की ‘दोस्ती’ को ऐतिहासिक जितनी ही पुरानी बताते हुए कहा, ‘सदियों से हम कला एवं स्थापत्य, विचार एवं परंपराओं और वाणिज्य एवं संस्कृति के जरिये जुड़े रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि 2001 में जब गुजरात में भूकंप आया था तो ईरान उन पहले देशों में शामिल था, जो मदद के लिए आगे आया। नरेंद्र मोदी उस वक्त गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

NAMO ने रचा इतिहास, चाबहार समझौते पर हुए हस्ताक्षर
NAMO ने रचा इतिहास, चाबहार समझौते पर हुए हस्ताक्षर

भारत के नजरिये से चाबहार बंदरगाह का महत्व
चाबहार बंदरगाह ईरान के दक्षिणी तट पर सिस्तान-बलुचिस्तान प्रांत में पड़ता है। यह रणनीतिक दृष्टि से भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत के पश्चिमी तट से फारस की खाड़ी के मुहाने पर स्थित इस बंदरगाह तक आसानी से पहुंचा जा सकता है और इसके लिए पाकिस्तान से रास्ता मांगने की जरूरत नहीं होगी।

भारत-ईरान 2003 में ही इसके लिए सहमत हो गए थे, लेकिन ईरान के खिलाफ पश्चिमी देशों की पाबंदियों के चलते इस पार बात आगे नहीं बढ़ सकी थी। पीएम मोदी ने कहा कि भारत और ईरान के बीच क्षेत्रीय एवं सामुद्रिक सुरक्षा के संबंध में दोनों देशों के रक्षा और सुरक्षा मामलों से जुड़े संस्थानों के बीच संपर्क बढ़ाने पर भी सहमति हुई है।

कई द्विपक्षीय समझौतों और सहयोग सहमतियों पर हुए हस्ताक्षर
पीएम मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी के साथ अकेले में वार्ता करने के बाद उनके साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘हम आतंकवाद, चरमपंथ, नशीली दवाओं के व्यापार और साइबर अपराध के खतरों से निपटने के लिए एक-दूसरे के साथ घनिष्ठता के साथ और नियमित रूप से परामर्श करने पर सहमत हुए हैं।’

NEXT क्लिक कर अगली स्लाइड में देखियें विडियो 

NAMO ने रचा इतिहास, चाबहार समझौते पर हुए हस्ताक्षर

Prev1 of 2Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

x
loading...
SHARE