बलूच नेता का बड़ा बयान – चाहे मुझे कुत्ता कह लो, मगर पाकिस्तानी न कहो

7821

पाकिस्तान की सेना बलूचिस्तान पर कितना जुल्म कर रही है ये बात किसी से भी छुपी हुई नहीं है। इस बार बलूचिस्तान के नेता ने जो कहा है वह पुरे पाकिस्तान को ही सदमे में डाल दिया है। दरअसल उन्होंने बयान दिया है कि, मुझे आप कुछ भी कहो लेकिन एक पाकिस्तानी न कहो, क्योंकि मैं पाकिस्तानी नहीं हूँ, मैं बलोच हूँ। क्योंकि पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान के लोगों पर इतना जुल्म कर रही है कि, यह सब बर्दाश्त के बाहर हो गया है। और कोई भी बलूचिस्तानी पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहता है।

आकर्षक ऑफर के लिए यहाँ क्लिक करें

call-me-anything-but-do-not-call-me-pakistani-baloch-neta

पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान के अन्दर जुल्म और सितम की इतनी ज्यादा इंतिहा कर रखी है कि, सब कुछ अब बर्दाश्त के बहा हो गया है। इसलिए वहां के लोग पाकिस्तान से आजादी चाहते है और इसके अलावा जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी आवाज बनने की उम्मीद जगाई है तब से पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान के लोगों पर जुल्म और ज्यादा कर दिया है।

call-me-anything-but-do-not-call-me-pakistani-baloch-neta-02

आपको बता दे कि, बलूचिस्तान में बलूचिस्तान के लोगों पर पाकिस्तानी सेना का जुल्म इतना ज्यादा बढ़ गया है कि, वहां की औरतों और बच्चों को भी नहीं बख्शा जा रहा है। अब वहां औरतें भी पाकिस्तानी सेना की शिकार होने लगी है। इसलिए वहां की औरतों ने कई बार दुनिया के सामने पाकिस्तान और पाकिस्तानी सेना की असलियत दिखाने के लिए ऐसे कई विडियोज सोशल मीडिया पर डाल दिए है ताकि उनकी यह आवाज यूनाइटेड नेशन तक पहुँच सके।

आपको बता दे कि, भारत के स्वतन्त्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने बलूचिस्तान के लोगों के लिए आवाज उठाई थी, तब से पाकिस्तानी सेना का जुल्म बलूचिस्तान पर और ज्यादा बढ़ गया है और यह कहना है बलूचिस्तान के आन्दोलनकारी नेताओं का। और आपको बता दे कि, आन्दोलन के चलते बलूचिस्तान के लोग इतने ज्यादा गरीब और बेरोजगार हो गए है कि, वहां पर खाने के लाले पड़ रहे है।

 call-me-anything-but-do-not-call-me-pakistani-baloch-neta-01

इस विडियो में आप देख सकते है कि, मीर मजदक दिलशाद एक बलूचिस्तान के आन्दोलनकारी नेता है और जब से पीएम मोदी ने बलूचिस्तान के लिए भाषण दिया तब से बलूचिस्तान ही नहीं बालकु पूरी दुनिया भर के कोने-कोने में रह रहे बलूचिस्तान के लोगों का आन्दोलन और तेज हो गया। पाकिस्तानी आर्मी के खिलाफ भी नारे लगाये जाने लगे।

जब मजदक दिलशाद बलूच नेता दिल्ली आ रहे थे, तब उनका पासपोर्ट चेक किया गया तो वह पाकिस्तानी पाए गए, हालाँकि मजदक दिलशाद का पासपोर्ट तो कनाडा का था लेकिन जन्म स्थल पाकिस्तान दिया हुआ था। तब उनका दर्द छलक पड़ा और उन्होंने बताया कि, कुछ भी कहो लेकिन पाकिस्तान न कहो। और यह सब इसलिए हो रहा है क्योंकि पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान के लोगों को बहुत ज्यादा परेशान करके रख दिया है। हालाँकि, मजदक दिलशाद अभी दिल्ली में है और बलूचिस्तान में किस तरह पाकिस्तानी सेना कहर बरपा रही है उसके बारें में ये डिटेल से बता रहे है।

loading...