मुंबई के इस गैंगस्टर ने की थी दाऊद इब्राहिम की पिटाई

14002
Prev1 of 4Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

मुंबई के इस गैंगस्टर ने की थी दाऊद इब्राहिम की पिटाई : हाजी मस्तान मिर्जा को भले ही मुंबई अंडरवर्ल्ड का पहला डॉन कहा जाता है. लेकिन अंडरवर्ल्ड के जानकार बताते हैं कि सबसे पहला माफिया डॉन करीम लाला था. जिसे खुद हाजी मस्तान भी असली डॉन कहा करता था. करीम लाला का आतंक मुंबई में सिर चढ़कर बोलता था. मुंबई में तस्करी समते कई गैर कानूनी धंधों में उसके नाम की तूती बोलती थी. बताया जाता है कि वह ज़रूरतमंदों और गरीबों की मदद भी करता था.

कौन था करीम लाला
करीम लाला का असली नाम अब्दुल करीम शेर खान था. उसका जन्म 1911 में अफगानिस्तान के कुनार प्रांत में हुआ था. उसे पश्तून समुदाय का आखरी राजा भी कहा जाता है. उसका परिवार काफी संपन्न था. वह कारोबारी खानदार से ताल्लुक रखता था. जिंदगी में ज्यादा कामयाबी हासिल करने की चाह ने उसे हिंदुस्तान की तरफ जाने के लिए प्रेरित किया था.

मुंबई के इस गैंगस्टर ने की थी दाऊद इब्राहिम की पिटाई
मुंबई के इस गैंगस्टर ने की थी दाऊद इब्राहिम की पिटाई

हिंदुस्तान का रुख
अब्दुल करीम शेर खान उर्फ करीम लाला ने 21 साल की उम्र में हिंदुस्तान आने का फैसला किया. वह पाकिस्तान के पेशावर शहर के रास्ते मुंबई पहुंचा. इसके बाद उसने यहीं बसने का मन बना लिया. उसने मुंबई आकर अपना कारोबार शुरू किया. लेकिन किसी ने सोचा भी नहीं था कि एक दिन करीम लाला मुंबई का सबसे बड़ा माफिया गैंगस्टर बन जाएगा.

MUST READ : कल जला डालूँगा दाउद की कार : हिन्दू नेता स्वामी चक्रपानी

तस्करी और कारोबार
करीम लाला ने मुंबई में दिखाने के लिए तो कारोबार शुरू कर दिया था. लेकिन हकीकत में वह मुंबई डॉक से हीरे और जवाहरात की तस्करी करने लगा था. 1940 तक उसने इस काम में एक तरफा पकड़ बना ली थी. आगे चलकर वह तस्करी के धंधे में किंग के नाम से मशहूर हो गया था. तस्करी के धंधे में उसे काफी मुनाफा हो रहा था. पैसे की कमी नहीं थी. इसके बाद उसने मुंबई में कई जगहों पर दारू और जुएं के अड्डे भी खोल दिए. उसका काम और नाम दोनों ही बढ़ते जा रहे थे.

करीम लाला के बारे में और अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करे

Prev1 of 4Next
Use your ← → (arrow) keys to browse

x
loading...
SHARE